दृष्टिकोण का अन्तर...

बाहर की परिस्थितियों में अपने अपने दृष्टिकोण के कारण भिन्न भिन्न प्रकार की अनुभूतियाँ होती है। एक भि...

March 1, 2024, 11:06 a.m.

उदारता और कठोरता।...

दूसरों के साथ उदारता का व्यवहार केवल वे कर सकते है जो अपने प्रति कठोर होते है। जो अपने साथ रियायत चा...

March 1, 2024, 11:04 a.m.

आत्म विश्वास का शास्त्र...

जीवन संग्राम का सबसे बड़ा शस्त्र आत्मविश्वास है। जिसे अपने ऊपर-अपने संकल्प बल और पुरुषार्थ के ऊपर भर...

March 1, 2024, 11:02 a.m.

महात्मा महान आत्मा वाला पुरुष...

प्रेम और समता मनुष्य को ज्ञान देता है कि वह अपनी सीमाओं से बाहर भी है और वह अखिल जगत की आत्मा का ही ...

March 1, 2024, 11:01 a.m.

निःस्वार्थ प्रेम...

यथार्थ ईश्वर भक्त या भगवत् प्रेमी अकेला ही लाखों योद्धाओं की शक्ति रखता है। वह किसी पार्थिव सहायता क...

March 1, 2024, 11 a.m.

व्यक्तित्व का परिष्कार...

मित्रो ! सर्वत्र पात्रता के हिसाब से मिलता है। बर्तन आपके पास है तो उसी बर्तन के हिसाब से आप जो चीज ...

March 1, 2024, 10:58 a.m.

आन्तरिक सामर्थ्य ही साथ देगी...

एक दिन मैं किसी पहाड़ी से गुजर रहा था। एक बड़ा विशाल बरगद का पेड़ खड़ा तलहटी की शोभा बढ़ा रहा था। उस...

March 1, 2024, 10:53 a.m.

मूल-स्रोत का सम्बल...

एक बीज डाला जाता है, तब वृक्ष खड़ा होता है। बीज सारे वृक्ष का मूल है। मनुष्य-जीवन का भी एक वैसा ही म...

March 1, 2024, 10:52 a.m.

जीवन की महत्ता समझें और उसका स...

मनुष्य-जीवन नगण्य सी- ऐसी तुच्छ वस्तु नहीं है, जिसे हलकी दृष्टि से देखा जाय और हलके कार्यों में खर्च...

Feb. 29, 2024, 11:11 a.m.

सबसे बड़ी सेवा...

दूसरों के संकल्प और विचार जान लेना बहुत कठिन है। किन्तु अपने मन की भावनाओं को बहुत स्पष्ट समझा, सुना...

Feb. 29, 2024, 11:09 a.m.

आबू धाबी के हिंदू मंदिर पहुंचे...

संयुक्त अरब अमीरात प्रवास के क्रम में गायत्री परिवार प्रतिनिधि आद. डॉ.चिन्मय पंड्या राजधानी आबू धाबी...

Feb. 28, 2024, 2 p.m.

मुंबई अश्वमेध महायज्ञ से नई ऊर...

परम श्रद्धेय डॉ प्रणव पंड्या एवं स्नेहसलीला परम श्रद्धेया दीदी के प्रत्यक्ष मार्गदर्शन एवं दलनायक पर...

Feb. 27, 2024, 9:59 p.m.

आद डॉ पंड्या आबूधाबी UAE में -...

मुम्बई अश्वमेध महायज्ञ के सफल आयोजन के उपरान्तअखिल विश्व गायत्री परिवार प्रतिनिधि एवं देव संस्कृति व...

Feb. 27, 2024, 6:14 p.m.

मुबंई अश्वमेध महायज्ञ से गुरुस...

मुंबई अश्वमेध महायज्ञ के लिए राजस्थान की राजधानी जयपुर से गायत्री परिवार के करीब पांच सौ समयदानी कार...

Feb. 27, 2024, 11:32 a.m.

विश्वमंच पर भारत को एक नई पहचा...

मुंबई महानगर के खारघर कार्पोरेट पार्क ग्राउण्ड में 21 फरवरी 2024 से शुरु हुए अश्वमेध महायज्ञ के अंति...

Feb. 26, 2024, 5:13 p.m.

मुंबई अश्वमेध यज्ञ में नवयुगद...

मुम्बई अश्वमेध के सफलता के लिए जहां एक और सब लोगों ने तन-मन-धन लगाया, वहीं टाटानगर गायत्री परिवार यु...

Feb. 26, 2024, 10:28 a.m.

मुंबई अश्वमेध महायज्ञ प्रदर्शन...

मुंबई अश्वमेध महायज्ञ प्रदर्शनी में देवात्मा हिमालय की मनोहारी छटा लाखों श्रद्धालुओं को  ऋषि सत्ता क...

Feb. 26, 2024, 10:24 a.m.

नवयुगदल टाटानगर झारखंड के सदस्...

मुम्बई अश्वमेध महायज्ञ को ऐतिहासिक और यादगार बनाने हेतु गायत्री परिवार टाटानगर का युवा प्रकोष्ठ नवयु...

Feb. 25, 2024, 5:33 p.m.

मुंबई अश्वमेध महायज्ञ में आज अ...

भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री आदरणीय श्री नरेंद्र मोदी जी आज अश्वमेध महायज्ञ में लाइव जुड़े और अखिल विश...

Feb. 25, 2024, 10:50 a.m.

विराट दीपयज्ञ - देव संस्कृति क...

'कृण्वन्तो विश्वमार्यम्' अर्थात पूरा विश्व आर्य (श्रेष्ठ) बने, आर्यसमाज के संस्थापक स्वामी दयानंद सर...

Feb. 25, 2024, 9:15 a.m.
as

First Meeting With Guru

At the age of 15- Self-realization on Basant Panchanmi Parva 1926 at Anwalkheda (Agra, UP, India), with darshan and guidance from Swami Sarveshwaranandaji.

Akhand Deep

More than 2400 crore Gayatri Mantra have been chanted so far in its presence. Just by taking a glimpse of this eternal flame, people receive divine inspirations and inner strength.

Akhand Jyoti Magazine

It was started in 1938 by Pt. Shriram Sharma Acharya. The main objective of the magazine is to promote scientific spirituality and the religion of 21st century, that is, scientific religion.

Gayatri Mantra

The effect of sincere and steadfast Gayatri Sadhana is swift and miraculous in purifying, harmonizing and steadying the mind and thus establishing unshakable inner peace and a sense of joy filled calm even in the face of grave trials and tribulations in the outer life of the Sadhak.

आचार्य जी ने सिद्धांत और साधना को आधुनिक युग के अनुकूल तर्क व शब्द देकर सामाजिक परिवर्तन का जो मार्ग दिखाया है, उसके लिए आने वाली पीढ़ियाँ युगों-युगों तक कृतज्ञ रहेंगी।

डॉ. शंकर दयाल शर्मा (पूर्व राष्ट्रपति)

मुझे ज्ञात है कि इस विश्वविद्यालय ने स्वतंत्रता सेनानी और लगभग ३००० पुस्तकों के लेखक पंडित श्रीराम शर्मा आचार्यजी के स्वप्न को साकार रूप दिया है। इन्हें भारत में ज्ञान क्रांति का प्रवर्तक कहना उपयुक्त होगा। आचार्यश्री का विचार था कि अज्ञानता ही निर्धनता और बीमारी आदि सभी समस्याओं की जड़ है।

डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम (पूर्व राष्ट्रपति एवं वैज्ञानिक)

आचार्य जी का एकाकी पुरुषार्थ सारे संत समाज की सम्मिलित शक्ति के स्तर का है, उनने गायत्री व यज्ञ को प्रतिबंध रहित करने निमित्त जो कुछ भी किया वह शास्त्रों के अनुसार ही था। मेरा उन्हें बारम्बार नमन है।

स्वामी जयेन्द्रतीर्थ सरस्वती (शंकराचार्य कांची कामकोटि पीठ)

श्रद्धेय आचार्य श्रीराम शर्मा जी ने जो कार्य कर दिखाया वह अद्भुत है, युग के लिए नितांत आवश्यक है। आचार्य जी के साहित्य से मैं बहुत प्रभावित हूँ। प्रज्ञा पुराण ने विशेष रूप से मुझे अपने कार्यों में बहुत बल प्रदान किया है। उनका चिंतन राष्ट्र को शक्तिशाली बनाता और मानव मात्र को सही दिशा प्रदान करता है।

श्री नानाजी देशमुख (संस्थापक ग्रामोदय विश्वविद्यालय)

आचार्य जी द्वारा भाष्य किए गए उपनिषदों का स्वाध्याय करने के बाद उन्होंने कहा कि- ‘‘काश! यह साहित्य मुझे जवानी में मिल गया होता तो मेरे जीवन की दिशाधारा कुछ और ही होती; मैं राजनीति में न जाकर आचार्य श्री के चरणों में बैठा अध्यात्म का ज्ञान ले रहा होता।’’

सर्वपल्ली डॉ. राधाकृष्णन्

विनोबा जी ने वेदों के पूज्यवर द्वारा किए गए भाष्य को ग्वालियर मेंं एक सार्वजनिक सभा में अपने सिर पर धारण करते हुए कहा- "ये ग्रन्थ किसी व्यक्ति द्वारा नहीं, शक्ति द्वारा लिखे गये हैं।"

आचार्य विनोबा भावे

सुप्रसिद्ध सन्त देवरहा बाबा एक सिद्ध पुरुष थे। उनने एक परिजन से कहा- ‘‘बेटा! उनके बारे में मैं क्या कहूँ? यह समझो कि मैं हृदय से सतत उनका स्मरण करता रहता हूँ। गायत्री उनमें पूर्णतः समा गयी है एवं वे साक्षात् सविता स्वरूप हैं।’’

देवरहा बाबा

‘‘आचार्यश्री ने गायत्री को जन-जन की बनाकर महर्षि दयानन्द के कार्यों को आगे बढ़ाया है। गायत्री और ये एकरूप हो गये हैं।’’

महात्मा आनन्द स्वामी

अपने भावभरे उद्गार पूज्यवर के सम्बन्ध में इस रूप में व्यक्त किए थे- ‘‘आचार्य जी इस युग में गायत्री के जनक हैं। उनने गायत्री को सबकी बना दिया। यदि इसे मात्र ब्राह्मणों की मानकर उन्हीं के भरोसे छोड़ दिया होता तो अब तक गायत्री महाविद्या सम्भवतः लुप्त हो गयी होती।’’

करपात्री जी महाराज